Bit Kya Hai | बिट क्या है? बिट और बाइट में क्या अंतर है?

(Bit Kya Hai) बिट क्या है और साथ में जानेंगे बिट और बाइट में क्या अंतर है हिंदी में ? बिट और बाइट Computer Data से सम्बंधित दो ऐसे शब्द है जिसने अच्छे अच्छो को कंफ्यूज किया है इन दोनों में कही आप भी तो कंफ्यूज नहीं है और अगर है तो इस पोस्ट Bit Kya Hai के बाद आपका भ्रम हो जायेगा. आपने देखा होगा जब भी कंप्यूटर मेमोरी जैसे हार्ड डिस्क या रैम की बात होती है तो गीगाबाइट (GB) जैसे शब्द सुने जाते है और जब कंप्यूटर प्रोसेसर की बात होती है तो 32 बिट, 64 बिट जैसे शब्द आते है. तो चलिए शुरू करते है और जानते है कि Bit Kya Hai? यहा पर हम ये भी जानेंगे कि किलोबाइट, मेगाबाइट और 1 बिलियन बाइट कितना होता है?

बिट क्या है- What is Bit in Hindi 

कंप्यूटर मेमोरी की सबसे छोटी इकाई बिट होती है. यह डेटा या सूचना को मापने की सबसे छोटी इकाई है. बिट्स को आमतौर पर डेटा स्टोर करने और निर्देशों को निष्पादित करने के लिए बाइट्स नामक बिट गुणकों (multiples )में बांटा जाता है। आठ बिट्स के समूह को आमतौर पर 1 बाइट के रूप में परिभाषित किया जाता है, जबकि चार बिट्स को 1 निबल कहा जाता है।

कंप्यूटर केवल बाइनरी सिस्टम 1 or 0 को समझता है ये 1 or 0 बिजली स्विच के On या Off जैसे ही है.”

Computer को केवल 0 और 1 समझ आता है मतलब उसके लिए फोटो, विडियो, टेक्स्ट आदि सब Binary Data 1s (ones )और 0s (zeros) है. कंप्यूटर हमारी जानकारी और Command को Bits के रूप में बदलता है और वो डाटा को कही भी भेजने या रिसीव करने के लिए Bit का ही प्रयोग करता है चाहे वो डाटा किसी Pen Drive से आये या फिर इन्टरनेट से.

वर्ष 1947 में वैज्ञानिको ने ट्रांजिस्टर का आविष्कार किया Transistor को कंप्यूटर में एक Digital Switch कह सकते है और कंप्यूटर (CPU) में इनकी संख्या अरबों में होती है. जब पर्याप्त वोल्टेज इस ट्रांजिस्टर को मिलती है तो ये ON हो जाता है नहीं तो OFF रहता है. ON अवस्था को 1 से प्रदर्शित करते है और OFF को 0 से। 1 और 0 को क्रमशः High or Low, True or False से भी प्रदर्शित करते है.

Advertisements

बिट का फुल फॉर्म क्या है?

बिट का फुल फॉर्म है – Binary digit   

बिट को हिंदी में क्या कहते है- Bit meaning in Hindi?

बिट को हिंदी में ” द्विआधारी अंक” कहते है। 

बाइनरी सिस्टम क्या है?

बिट क्या है (Bit Meaning in Hindi)  ये तो आपने जान लिया अब ये जानते है कि बाइनरी सिस्टम क्या है? आपने बचपन से ही Decimal system पढ़ा होगा जैसे 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10 लेकिन कंप्यूटर को ये सब समझ नहीं आता है वो केवल बिट्स समझता है मतलब Binary System को फॉलो करता है कंप्यूटर के लिए 1 से लेकर 10 तक गिनती बाइनरी में ऐसी होगी.

  • 1 = 0001,  2= 0010,  3= 0011, 4= 0100, 5= 0101, 6= 0110, 7= 0111, 8= 1000, 9= 1001, 10= 1010 और हमें जो भी जानकारी देता है वो या ones या zeros के फॉर्म होती है.

बाइनरी सिस्टम के द्वारा कोई भी संख्या 0 और 1 के रूप में लिखी जा सकती है अब आप ये भी कह सकते है कि कंप्यूटर में नंबर के अलावा फोटो टेक्स्ट विडियो भी होते है तो इन्हे बाइनरी में कैसा बदला जाता होगा तो इसे उदाहरण से समझते है जैसे

  • अल्फाबेट में हम A को 1 से दिखा सकते है B को 2 से….Z को 26 से.
  • फोटो छोटे छोटे dots (एरिया) से बनता है जिन्हें pixel कहते है और हर pixel में एक रंग होता है और हर रंग का एक नंबर होता है और इसी नंबर को बाइनरी में कंप्यूटर समझता है.
  • ध्वनि मतलब कम्पन (वाइब्रेशन) और कम्पन को तरंग (waveform) के रूप में दिखा सकते है और जब ग्राफ पेपर में तरंग बनायेंगे तो नंबर भी दिख जायेगा और इसी नंबर में बाइनरी में बदला जायेगा.

बाइट क्या है-What is Byte in Hindi

बाइट Computer memory की दूसरी सबसे छोटी इकाई है जो किसी एक अक्षर द्वारा ली जाने वाले स्थान को प्रदर्शित करता है.1 बाइट में 8 बिट होते है. 8 बिट मिलकर 1 बाइट बनाते है. ये भी डिजिटल इनफार्मेशन को मापने का काम करती है यहा पर सिंगल बाइट का उदाहरण देता हूँ जैसे ‘1 1 0 0 1 1 1 0’ में आठ बिट है. 1 Byte एक letter या character सेव करता है जैसे 2, A, G, # आदि डाटा का साइज़ बढ़ने पर बाइट का प्रयोग किया जाता है जैसे 1 KB, 1 MB, 1 GB, 1 TB  बाइट को दर्शाने के लिए कैपिटल B का प्रयोग करते है. पेन ड्राइव, हार्ड डिस्क, मेमोरी कार्ड आदि जैसे स्टोरेज डिवाइस की क्षमता Bytes में मापी जाती है.

बिट और बाइट में अंतर 

  • बिट को छोटे b से प्रदर्शित करते है जबकि बाइट को बड़े B से
  • बिट बाइनरी डाटा 0 और 1 में से किसी एक को एक बार में स्टोर करता है जबकि बाइट 256 character को स्टोर कर सकता है
  • बिट डाटा की सबसे छोटी इकाई है जबकि बाइट, बिट से बड़ा होता है (1 बाइट = 8 बिट्स)
  • जब डाटा ट्रान्सफर स्पीड की बात आती है तब बिट ज्यादा एक्यूरेट होता है क्योकि ये सबसे छोटी इकाई है जबकि डाटा साइज़ को प्रदर्शित करने के लिए बाइट का प्रयोग होता है.

कंप्यूटर मेमोरी मापने की इकाई – Units of Computer Memory

Bit Kya Hai

 

  • 1 bit = 1 binary digit (0 or 1)
  • 1 Nibble = 4 bit
  • 1 Byte (B) = 8 bits
  • 1 KiloByte(KB) = 1024 bytes = 2^10bytes
  • 1 MegaByte(MB) = 1024 KB = 1024^2 = 1024×1024 bytes =1,048,576 bytes
  • 1 GB = 1,024 MB = 1024^3 bytes = 1,073,741,824 bytes
  • 1 TeraByte (TB) = 1024 GB
  • 1 PetaByte(PB) = 1024 TB
  • 1 ExaByte (EB) = 1024 PB
  • 1 ZettaByte (ZB) = 1024 EB
  • 1 Yottabyte (YB) = 1024 ZB

1 किलोबाइट कितने बाइट के बराबर होता है 

1 किलोबाइट में 1024 बाइट होते लेकिन बोलचाल की भाषा में 1000 बाइट भी कहते है इसी तरह 11 किलोबाइट में 11*1024 =11264 bytes or लगभग 11000 बाइट होते है.

1 बिलियन बाइट कितना होता है

1 Gigabyte (GB) में 1,073,741,824 bytes होते है जिसे हम बोल चाल की भाषा में 1 बिलियन बाइट कह देते है और बाकि 7 करोड़ 37 लाख बाइट को अनदेखा कर देते है या फिर हम ये कह सकते है कि 1 बिलियन बाइट में 1 GB होता है. लेकिन याद रखिये बिलियन 1 अरब के बराबर होता है.

बिट का पूरा नाम क्या है?

 बिट का पूरा नाम Binary Digit (बाइनरी डिजिट) है.

निष्कर्ष: Bit Ke Bare Me Jankari Hindi Me

मुझे पूरी उम्मीद है कि आपको बिट क्या है हिंदी में (What is Bit in Hindi) और बिट और बाइट में क्या अंतर है ये भी समझ आ गया होगा और संक्षेप में कहे तो जब डाटा किसी माध्यम से भेजा जाता है तब वहा Bit per second (bits/s) का प्रयोग करते है जैसे Bits/s, Kilobits/s (kbps), Megabits/s (Mbps) और डाटा खपत या स्टोरेज की बात आती है तब बाइट शब्द का प्रयोग होता है किलोबाइट, गीगाबाइट आदि तो अब तो आपको समझ आ गया होगा कि बिट क्या होता है (Bit Definition in Hindi) और बिट और बाइट में क्या अंतर है. 

Bit Ke Bare Me Jankari Hindi Me पसंद आई हो तो इसे Social media जैसे Facebook, WhatsApp Twitter आदि पर शेयर जरुर करियेगा.

इस तरह की और जानकारी के लिए आप हमारे Tech, Google products और Internet केटेगरी को भी देख सकते है और हमारे फेसबुक, Quora, Pinterest और ट्विटर पेज को भी फॉलो कर सकते है.

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Advertisements

You cannot copy content of this page