5G बैंड क्या होता है? कौन से 5G बैंड स्पेक्ट्रम का 5जी मोबाईल खरीदना उपयुक्त रहेगा ?

5G बैंड in hindi

दोस्तों आज हम जानेंगे कि 5G बैंड क्या होता है या 5G बैंड स्पेक्ट्रम क्या होता है? इस पोस्ट में हम ये भी जानेंगे कि 5 जी स्मार्टफोन लेते समय कौन से बैंड देखने चाहिए. तीन प्रकार के 5G बैंड से स्पीड और रेंज में क्या फर्क पड़ता है. और आपका 4 जी फोन भी 5 जी नेटवर्क पर काम करेगा? आइये जानते है 5G बैंड क्या होता है (5G Band in Hindi). आगे बढ़ने से पहले बता दूँ कि अगर आपने 5 G की बारे में नहीं पढ़ा है तो ये पोस्ट  5G क्या हैं? 5G के फायदे क्या है? कैसे 5 जी दूसरे नेटवर्क से अलग है?  जरुर पढ़े.

जैसे 5 जी लांच होने की सूचना आ रही है वैसे ही बहुत से 5 जी स्मार्टफोन भी मार्केट में लांच किये जा रहे है. इन स्मार्टफोन में 5 जी बैंड्स लोगो को कंफ्यूज कर रहे है. किसी फोन में 5 बैंड होते है किसी में 13 बैंड.

Table of Contents hide

5 जी बैंड स्पेक्ट्रम | What is 5G Band Spectrum in Hindi?

5 जी बैंड स्पेक्ट्रम वो फ्रीक्वेंसी होते है जिस फ्रीक्वेंसी पर आपके मोबाइल डिवाइस पर इन्टरनेट उपलब्ध होता है. यही फ्रीक्वेंसी ही मोबाइल से डाटा को सेलुलर बेस स्टेशन तक ले जाते है. 5 जी स्पेक्ट्रम 5G coverage and speed के बारे में बताता है. स्मार्टफ़ोन electromagnetic radio frequencies का उपयोग करके आवाज़ और डेटा को हवा में प्रसारित करते हैं, इन फ्रीक्वेंसी को अलग-अलग फ़्रीक्वेंसी बैंड में व्यवस्थित किया जाता है. इनमें से कुछ बैंड दूसरों की तुलना में अधिक क्षमता रखते हैं और तेजी से सूचना देने में सक्षम होते हैं, जो कि एमएमवेव के मामले में पाया जाता है.

5 जी बैंड स्पेक्ट्रम को मुख्य रूप से तीन केटेगरी में बांटा जाता है. 5 जी इन्ही बैंड का यूज करेगी. आपको बता दू कि लो बैंड और मिड बैंड का यूज 5 जी से पहले के जनरेशन 1G, 2G, 3G, 4G शुरू से ही करते आ रहे है. और आने वाले समय में 5 जी भी इन्ही में से कुछ बैंड का यूज करगी.

  1. Low band spectrum
  2. Mid band spectrum
  3. High band spectrum (millimetre band)

सभी फ्रीक्वेंसी बैंड की रेडियो तरंगो की डाटा ले जाने की एक सीमा होती है. जैसे ही हम उस सीमा तक पहुच जाते है तो किसी दूसरे को अच्छी इन्टरनेट स्पीड देने के लिए किसी अन्य की स्पीड कम हो जाती है. यही पर 5 G अधिक क्षमता, अधिक स्पेस जोड़ता है. मतलब फ्रीक्वेंसी बैंड में सबके लिए जगह है. आप दो डिवाइस यूज करे या एक सबको ज्यादा स्पीड मिलेगी.

और ये जरुरी भी है क्योंकि हर साल इन्टरनेट यूजर्स की संख्या तेजी से बढ़ रही है. और ज्यादा इन्टरनेट सर्विस का यूज कर रहे है

Advertisements

1. लो बैंड स्पेक्ट्रम (Low band spectrum)

स्पेक्ट्रम चार्ट में 1 GHz (गीगाहर्ट्ज) से नीचे के सारे स्पेक्ट्रम लो बैंड स्पेक्ट्रम में आते है. शुरूआती वायरलेस नेटवर्क (1 G) को लो बैंड के 800 MHz spectrum में शुरू किया गया था. इस बैंड में टेलिकॉम कंपनी केवल एक टावर से मीलों दूर हजारों ग्राहकों को सेवा दे सकते है. Low band spectrum की यही सबसे अच्छी बात थी कि इसका कवरेज बहुत दूर तक होता है.

Low-band 5G, 600 MHz से 900 MHz के बीच काम करेगा. इसी बैंड को आज के 4 जी नेटवर्क भी यूज करते है. इस बैंड में आपको 5 जी के लिए स्पीड 4 जी से थोडा ज्यादा अच्छा मिलेगी. लेकिन लो बैंड स्पेक्ट्रम की स्पीड बाकि दूसरे बैंड मिड और हाई बैंड से हमेशा कम ही रहेगी. इसमे इन्टरनेट स्पीड 30-250 Mbps के बीच मिलेगी. इसका मतलब यह नहीं है कि low-band 5G  योग्य नहीं है. कम स्पीड के कारण लो-बैंड 5जी ज्यादा दूर तक जाते है. और लो-बैंड 5G में कम बैंडविड्थ है: यह दूर तक यात्रा कर सकता है क्योंकि इसमें High Frequency की तुलना में डेटा ले जाने की क्षमता कम होती है

2. मिड बैंड स्पेक्ट्रम (Mid band spectrum)

Mid band spectrum 1GHz से 6GHz के बीच का होता है और निश्चित रूप से कहे तो इनमे से 5 जी के लिए 2.5 GHz, 3.5 GHz और 3.7 GHz से 4.2 GHz यूज किया जायेगा. इस बैंड में 100-900 Mbps की इन्टरनेट स्पीड मिलती है. मिड बैंड में हर सेल टावर की रेंज कम होती है. लेकिन स्पीड लो बैंड से ज्यादा होती है. और आने वाले वर्षो में 5 जी के ऑपरेट करने के लिए सबसे ज्यादा इसी बैंड का यूज किया जायेगा इनमे से कुछ बैंड पहले से 4 जी के लिए यूज किये जा रहे है. मिड बैंड 5 जी स्पेक्ट्रम लो बैंड 5 जी स्पेक्ट्रम से 5 गुना चौड़ा होता है इसलिए ये ज्यादा डाटा को ले जाने की क्षमता रखता है. लेकिन ये लो बैंड स्पेक्ट्रम की तुलना ज्यादा दूर तक नहीं जा पाते है फिर भी हाई बैंड स्पेक्ट्रम से ज्यादा दूर जाते है.

इसे 5G के लिए एकदम सही माना जाता है क्योंकि यह लंबी दूरी की यात्रा के दौरान बहुत सारा डेटा ले जा सकता है.  ये फ्रीक्वेंसी ग्रामीण क्षेत्रों के लिए सबसे उपयुक्त हैं, जहां कनेक्टिविटी की मांग कम है, लेकिन लंबी दूरी पर कवरेज की आवश्यकता है. मिड-बैंड स्पेक्ट्रम का एक अन्य लाभ यह है कि दूरसंचार कंपनियां नेटवर्क को तैनात करने के लिए मौजूदा 4जी बुनियादी ढांचे का उपयोग कर सकती हैं. 

3. हाई बैंड स्पेक्ट्रम (High band spectrum or millimetre wave spectrum)

अब, हाई-बैंड स्पेक्ट्रम, जिसे 5G नेटवर्क के मिलीमीटर वेव स्पेक्ट्रम के रूप में भी जाना जाता है. हाई-बैंड स्पेक्ट्रम 24 GHz से ऊपर का बैंड होता है(mmwave) . ये अधिकतम 47 GHz तक जाता है. मिलीमीटर वेव स्पेक्ट्रम का एक प्रमुख लाभ यह है कि सिग्नल आपको 1 Gbps से 3 Gbps के बीच कनेक्शन की स्पीड दे सकता है और कुछ मामलों में, इससे भी अधिक स्पीड मिल सकती है. लेकिन हाई-बैंड स्पेक्ट्रम में एक खामी भी है. 

ये स्पेक्ट्रम बहुत दूर नहीं जा सकता. वास्तव में ये तरंगें पेड़ों, इमारतों और यहां तक ​​कि कांच जैसे मामूली हस्तक्षेप से प्रभावित होती हैं. इसका मतलब है कि आपको सबसे अधिक हाई इंटरनेट स्पीड प्राप्त करने के लिए आपको टावर के पास होना चाहिए और अपने और मिलीमीटर वेव टॉवर के बीच कोई हस्तक्षेप या रुकावट नहीं होना चाहिए. mmWave एक सुपर-फास्ट 5G है. इसका कवरेज बढ़ाने के लिए बहुत सारे टावरों की आवश्यकता होती है. जिससे ये टेलीकॉम कंपनी के लिए इनस्टॉल करना महंगा होता है. mmWave की सीमाएँ इसे घने, शहरी क्षेत्रों (Dense Urban Area) या हवाई अड्डों या मॉल जैसे स्थानों के लिए सबसे उपयुक्त बनाती हैं.

types of 5g bands in hindi
Source: T-mobile
Advertisements

एक iPhone के साथ जो mmWave के साथ दोनों बैंड्स सपोर्ट करता है, वो बिजली की तरह 5G स्पीड का लाभ उठा सकते हैं अगर mmWave तकनीक उपलब्ध है, जबकि अन्य 5G कवरेज अधिक आधुनिक LTE नेटवर्क के समान है. एक आईफोन के साथ जिसमें केवल Sub-6GHz band (Low +Mid band) है, वो आसानी से उपलब्ध 5G नेटवर्क का उपयोग कर सकते हैं लेकिन बिजली वाली 5 जी स्पीड नहीं मिलेगी.

थ्योरी के अनुसार यदि आपके 5G मोबाइल डिवाइस में अधिक बैंड हैं, तो आपको बेहतर 5G network मिलेगा. लेकिन यह सब आपके Telecom provider पर निर्भर करता है, जिसे आपके क्षेत्र में सभी संभावित 5G बैंड स्पेक्ट्रम को इनेबल करने की आवश्यकता है. इसका कवरेज सीमित है, तो यह केवल घने शहरी क्षेत्रों में उपयोगी है जहां आपके फोन और 5G टावर के बीच सीधी रेखा हो.

मिड-बैंड – 3.3-3.8GHz सबसे लोकप्रिय 5G बैंड है. यूरोप और एशिया के अधिकांश देशों में आमतौर पर यही बैंड यूज होता है. क्योंकि ये स्पेक्ट्रम पहले से ही 3G और 4G नेटवर्क द्वारा व्यापक रूप से उपयोग में है. 3.5GHz पर बैंड n78 भारत में उपलब्ध कराए जाने वाले 5 जी बैंड के दायरे में आता है. n78 – एक मिड-बैंड स्पेक्ट्रम होने के कारण, coverage और  capacity दोनों अच्छा देता है

Oneplus 9 series स्मार्टफोन में दो प्रमुख 5G बैंड हैं – n78 और n41.  2.6GHz पर 5G बैंड n41 एक और लोकप्रिय 5G बैंड है जो 5G को बड़ी संख्या में लोगों को तक पंहुचा सकता है

Smartphones जिनमे है सबसे ज्यादा 5G Bands का सपोर्ट 

Xiaomi 11T Pro

5G Band Support:  n1/3/5/7/8/20/28/38/40/41/66/77/78. (Total 13 Bands)

Moto G71 5G

5G Band Support: n1/n3/n5/n7/n8/n20/n28/n38/n40/n41/n66/n77/n78  (Total 13 Bands)

Infinix Zero 5G

5G Band Support: n1/n3/n5/n7/n8/n20/n28/n38/n40/n41/n77/n78/n79  (Total 13 Bands)

5 जी बैंड कवरेज एरिया

लो बैंड का कवरेज एरिया सबसे ज्यादा होता है. मतलब ये सिग्नल 10km दूर के स्मार्टफोन में 5 जी सेवा देता है. मिड बैंड स्पेक्ट्रम का रेंज 1 से 5 km के बीच होता है. जबकि हाई बैंड स्पेक्ट्रम का रेंज सबसे कम होता है जो कि 1 km से भी कम होता है.

Low band spectrum > Mid band spectrum > High band spectrum

5 जी बैंड स्पीड

जैसे का ऊपर बताया है हाई बैंड स्पेक्ट्रम का कवरेज सबसे कम होता है इसिलए इसकी 5 जी स्पीड भी सबसे तेज होती है. और रेंज ज्यादा होने के कारण लो बैंड स्पेक्ट्रम की स्पीड सबसे कम होती है.  2G, 3G, 4G, 5G सारे नेटवर्क लो बैंड स्पेक्ट्रम और मिड बैंड स्पेक्ट्रम में काम करते है. इंडिया में अभी केवल लो बैंड स्पेक्ट्रम और मिड बैंड स्पेक्ट्रम से 5 जी सेवाए दी जाएँगी. 

High band spectrum (fastest) > Mid band spectrum > Low band spectrum (slowest)

सी बैंड 5 जी | What Is C-Band 5G in Hindi

फेडरल कम्युनिकेशंस कमीशन (FCC) ने निर्धारित किया है कि 3.7GHz-4.2GHz फ़्रीक्वेंसी रेंज को C-बैंड के रूप में जाना जाएगा. लेकिन इसकी फ्रीक्वेंसी रेंज मिड-बैंड 5जी स्पेक्ट्रम के अंतर्गत आती है. अब मोबाइल कंपनिया 5 जी स्मार्टफोन को सी-बैंड 5G के रूप में मार्केटिंग करके बेच रही है.

कितने बैंड का 5जी मोबाईल खरीदना उपयुक्त रहेगा?

1 GHz – 6 GHz रेंज में स्पेक्ट्रम मिड-बैंड स्पेक्ट्रम है और इसे 5 जी के लिए आदर्श माना जाता है क्योंकि यह लम्बी दुरी के साथ भी बहुत सारे डेटा ले जा सकता है. ये बैंड आपके 5जी मोबाइल में होना ही चाहिए. इसके अलावा और भी बैंड का सपोर्ट मिल रहा है तो और भी अच्छी बात है. जब भी आप नय 5 G फोन ले तब नीचे  बताये गए बैंड्स को मोबाइल बॉक्स में जरुर देखे.

1 गीगाहर्ट्ज – 6 गीगाहर्ट्ज रेंज में 5G बैंड इस प्रकार है. मोबाइल के बॉक्स पर फ्रीक्वेंसी नहीं लिखी होती है. आपको केवल बैंड्स ही लिखे हुए दिखाई देंगे. जैसे कि n1/n2/n3/n7/n25/n34/n38/n39/n40/n41/n50/n51/n65/n77/n78/n79/n80/n84/n86. आपके जानने के लिए इनकी फ्रीक्वेंसी भी नीचे दी गयी है. (1 GHz=1000 MHz)

5G Frequency bands

Band ƒ (MHz)
n1 2100
n3 1800
n2 1900
n7 2600
n25 1900
n34 2100
n38 2600
n39 1900
n40 2300
  • n41               2500 MHz
  • n50              1500
  • n51               1500
  • n65               2100
  • n77               3700
  • n78               3500
  • n79               4700
  • n80               1800
  • n84               2100
  • n86               1700

मिलीमीटर 5G तथा सब-6 5G में क्या अंतर है ? Sub 6GHz 5G bands and mmWave frequency range 

कभी कभी 5 जी बैंड्स को Sub 6GHz और mmWave में बांटा जाता है. 6GHz से नीचे के Mid और Low-frequency bands, Sub 6GHz में आते है. और mmWave (5g mmwave frequency bands) 24GHz से 40GHz तक के उच्च फ्रीक्वेंसी वाले रेडियो बैंड को दर्शाता है.  mmWave 5G नेटवर्क अल्ट्रा-फास्ट हैं, लेकिन वे अल्ट्रा-शॉर्ट रेंज भी हैं. mmWave तकनीक का उपयोग करने के लिए, आपको 5G टॉवर के लगभग एक ब्लॉक के भीतर होना चाहिए, जो उपनगरीय और ग्रामीण क्षेत्रों में संभव नहीं है.

क्या 5 जी फोन खरीदना अभी सही पड़ेगा?

अभी तक मार्केट में बहुत 5 जी स्मार्टफोन लांच हो चुके है जिनकी कीमत 15 हजार से कम भी है. लेकिन अभी 5 G मोबाइल लेने का कोई मतलब नहीं है. क्योंकि अभी तक इंडिया में 5 जी लांच नहीं हुआ है. और अगर आपने अभी 5 जी फोन ले भी लिया तो हो सकता है 5 G नेटवर्क लांच होते होते आपका फोन की काम करने की क्षमता कम हो जाए. और वैसे भी जैसे ही 5 जी लांच होगा वैसे ही सारे मोबाइल कम्पनी कंपटीशन के कारण सस्ते 5 जी स्मार्टफोन मार्केट में लांच करने लगेंगे. इसलिए अभी 5 जी फोन खरीदना अभी सही नहीं है.

5G Bands FAQs

कौन कौन से 5G बैंड होते है

लो बैंड, मिड बैंड और हाई बैंड स्पेक्ट्रम-ये तीन 5 जी बैंड होते है.

कौन से 5 जी बैंड की स्पीड सबसे ज्यादा होती है?

हाई बैंड स्पेक्ट्रम और millimetre wave spectrum की स्पीड सबसे ज्यादा होती है.

कौन से बैंड का 5जी मोबाईल खरीदना उपयुक्त रहेगा?

1 गीगाहर्ट्ज - 6 गीगाहर्ट्ज रेंज में 5 जी मोबाईल खरीदना उपयुक्त रहेगा. इस रेंज में n1/n2/n3/n7/n25/n34/n38/n39/n40/n41/n50/n51/n65/n77/n78/n79/n80/n84/n86 बैंड आते है. इसमे से जितने ज्यादा बैंड मोबाइल में हो उतना ही अच्छा है.

इंडिया में कौन से 5जी बैंड स्पेक्ट्रम का यूज होगा

इंडिया में मिड बैंड और लो बैंड 5जी स्पेक्ट्रम का यूज होगा.

क्या अभी 5G फोन खरीदना चाहिए?

जब तक 5 जी नेटवर्क लांच ना हो तब तक फोन बिल्कुल भी नहीं खरीदे.

क्या अब 30 से 50 हजार रूपए का 4G फोन खरीदना ठीक रहेगा या 5G का इंतजार करना?

अगर आप 5 जी फोन का इंतजार कर रहे है और आपका 4G फोन ख़राब हो गया है तो सस्ता सा 4 जी या 5 जी फोन खरीद ले. आजकल 15 हजार तक में भी 5 जी फ़ोन आ रहे है.

क्या 4 जी फोन 5 जी नेटवर्क पर काम करेंगे?

हाँ 4 जी फोन 5 जी नेटवर्क पर काम करेंगे लेकिन वो 5 जी नेटवर्क का पूरा फायदा नहीं उठा पायेंगे. 5G, 4G LTE की तुलना में एक अच्छा सुधार होगा.

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Advertisements

You cannot copy content of this page